क्रिप्टोबेन्तिक रीफ मछलियाँ

Babu, Sandra and Sreeram, Miriam Paul and Sreenath, K R and Joshi, K K (2020) क्रिप्टोबेन्तिक रीफ मछलियाँ. In: मत्स्यगंधा : भा कृ अनु प - केंद्रीय समुद्री मात्स्यिकी अनुसंधान संस्थान की अर्थ वार्षिक राजभाषा गृह पत्रिका Matsyagandha. ICAR-Central Marine Fisheries Research Institute, Kochi, pp. 20-23.

[img]
Preview
Text
Sandra Babu_Matsyagandha Vol.7-3.pdf

Download (518kB) | Preview
Official URL: http://eprints.cmfri.org.in/15040/
Related URLs:

    Abstract

    प्रवाल भित्ति याँ ऑडोवि शन कल्प में वि कसि त हुईं और 450 मि लियन वर्ष के इतिह ास में मछलियों को प्रवाल भित्ति यों के साथ जुड़कर पाया गया। प्रवाल भित्ति यों में पाए जानेवाले मछली समुदाय विवि ध है जि नमें से कु छ सबस्ट्रेट अधिमान दि खाते हैं और कु छ वि शेष नि वास स्थल में वास करते हैं। क्रिप्टोबेन्तिक रीफ मछलियाँ (सी आर एफ) 50 मि .मी. की लंबाई से कम हैं और दृष्टि गत और व्यावहारिक रूप से अप्रकट हैं। ये रीफ आकार, रेत या प्रवालों के पास मलबे में छि पकर पायी जाती हैं। क्रिप्टो शब्द का अर्थ दरार एवं नि तलस्थ क्षेत्रों में छि पकर रहनेवाली छोटी मछलियाँ हैं जो समुद्र तल के भीतर या पास वास करती हैं। सभी रीफ मछलियों का 50% इनका हिस्सा है। ये सामान्यतः छद्मावरण से छि पकर रहती हैं या कु छ विवि ध चमकीले रंग का प्रदर्शन करती हैं और उनके शरीर में धारियाँ या चित्ति याँ होती हैं।

    Item Type: Book Section
    Subjects: Marine Ecosystems > Coral Reefs
    Marine Biodiversity
    Divisions: CMFRI-Kochi > Biodiversity
    Subject Area > CMFRI > CMFRI-Kochi > Biodiversity
    CMFRI-Kochi > Biodiversity
    Subject Area > CMFRI-Kochi > Biodiversity

    CMFRI-Kochi > Hindi Cell
    Subject Area > CMFRI > CMFRI-Kochi > Hindi Cell
    CMFRI-Kochi > Hindi Cell
    Subject Area > CMFRI-Kochi > Hindi Cell
    Depositing User: Mr. Prashanth P K
    Date Deposited: 09 Apr 2021 09:24
    Last Modified: 08 Apr 2022 08:33
    URI: http://eprints.cmfri.org.in/id/eprint/15074

    Actions (login required)

    View Item View Item