समुद्री शैवाल की खेती के माध्यम से मछुआरों की आजीविका में सुधार–तमि लनाडु के रामनाथपुरम जिले से सफलता की एक कहानी

Johnson, B and Jayakumar, R and Tamilmani, G and Sakthivel, M and Anikuttan, K K (2020) समुद्री शैवाल की खेती के माध्यम से मछुआरों की आजीविका में सुधार–तमि लनाडु के रामनाथपुरम जिले से सफलता की एक कहानी. In: मत्स्यगंधा : भा कृ अनु प - केंद्रीय समुद्री मात्स्यिकी अनुसंधान संस्थान की अर्थ वार्षिक राजभाषा गृह पत्रिका Matsyagandha. ICAR-Central Marine Fisheries Research Institute, Kochi, pp. 14-19.

[img]
Preview
Text
Johnson B_Matsyagandha Vol.7-2.pdf

Download (8MB) | Preview
Official URL: http://eprints.cmfri.org.in/15040/
Related URLs:

    Abstract

    भाकृ अनुप – सी एम एफ आर आइ के मंडपम क्षेत्री य कें द्र ने अनुसूचित जाति उप-योजना (एस सी एस पी) परियोजना (भारत सरकार द्वारा पूरी तरह से सब्सिडी प्राप्त) के कार्यान्वयन के लिए तमिल नाडु के रामनाथपुरम जिल े के तोंडी में स्थित पुतुक्कुडी गांव का चयन कि या है। इस गाँव में आबादी के 97 प्रतिशत अनुसूचित जाति के परिवार हैं और उनमें से अधिकांश लोग मछली पकड में शामिल हैं। इसके अलावा, यह गाँव समुद्र के कि नारे स्थित है और पि जं रा जलकृ षि , समुद्री अलंकारी मछली बीज पालन और समुद्री शैवाल कृ षि जैसी समुद्री संवर्धन गतिवि धियाँ आसानी से अपनाई जा सकती हैं।

    Item Type: Book Section
    Subjects: Aquaculture > Mariculture
    Divisions: CMFRI-Mandapam
    CMFRI-Kochi > Hindi Cell
    Subject Area > CMFRI > CMFRI-Kochi > Hindi Cell
    CMFRI-Kochi > Hindi Cell
    Subject Area > CMFRI-Kochi > Hindi Cell

    CMFRI-Kochi > Mariculture
    Subject Area > CMFRI > CMFRI-Kochi > Mariculture
    CMFRI-Kochi > Mariculture
    Subject Area > CMFRI-Kochi > Mariculture
    Depositing User: Mr. Prashanth P K
    Date Deposited: 09 Apr 2021 09:30
    Last Modified: 09 Apr 2021 09:30
    URI: http://eprints.cmfri.org.in/id/eprint/15068

    Actions (login required)

    View Item View Item